Soch Bichaar By Tmaya Rai

सोच विचार ओछ्यानमा लडिरहेछुआँखा धमिला धमिलाज्योति निभ्दैछ शायदकोसँग मनको कुरा राखुँन फेसबुक खोल्न सक्छुन मेसेज टाइप गर्नआँखा नै ठिक नभएपछिहात खुट्टा पनि निरर्थकलाग्दो रैछचिया नास्ता […] Read More

nepali poem collection

Word By Tmaya Rai

शब्द शब्द शब्दसँग प्रेम छ मलाईम हरेक चिज शब्दमा देख्न चाहन्छुशब्द छ र म छु अनि छ शब्दको संसारम हावालाई शब्द मार्फत अचल बनाउँछुम पानीमा […] Read More

memories

Memories Part-1 By Tmaya Rai

बाबा जन्मेको गाउँ ठाउँ हेर्ने उत्सुकताले मलाइ संधै गाउंतीर नै तानी रहन्थ्यो |टिभी रेडियोले जती फुक्यो, त्यती मात्रै थाहा थियो गाउंको बारेमा, एस एल सि […] Read More

bees

Shayari By Tmaya Rai

लोग खामखा प्यारको बदनाम करते फिरतें हैं आसानी से अगर ए मिलता अपनी बरबादी का कारण खुद क्यों बनतें है __________________ कुछ इस तरह उनसे […] Read More

incomplete

Shayari By Tmaya Rai

मिल जाए वह अगर गिले शिकवे दुर कर लुंगी हमेसा हमेसा के लिए अकेलेपन से आजाद हो जाऊंगी टुट गया होता हर वो दिवारें अगर मिला […] Read More

sad

Shayari By Tmaya Rai

हालात बदलते बदलते मुफलीस हो गए खाइ था सामने और रास्तें नजर आए   कब्र की धुल नहीं कब्र की फूल बन जाएंगे लगी है […] Read More

cloud

Hindi Shayari By Tmaya Rai

  मंजिल तो नहिं था वह अब जाकर मालुम चली है सही हो जाएगा सब बस रास्तें बदलने की देरी है तुम्हें भुलने के लिए क्या नहीं […] Read More

khumari

Shayari By Tmaya Rai

धोखा करके हंस रहे है लोग वफा करके फंस रहें है लोग बेखबर मैं मर मर के जि रहा हुं बेजान लोगों से सासें मांग रहा हुं […] Read More

lonely

Shero Shayari By TMAYA RAI – (शेरो शायरी संग्रह -8 )

जलन किसी ने दियाहम तो बस उसको बुझाने चलेवो तो शराफत थी हमारीसिर्फ शराबी बन गए इन आखों ने बहुत कुछ बिकते हुए देखा हैंसौदा अच्छा […] Read More